भरम


By: Rajesh Dhiman (LMB)

 

आशिक तेरा इश्क़ तेरे में ठरता है कोई।

आज भी तुझपे पहले जैसे मरता है कोई।

 

जीतने वाले लोगो में एक तेरी गिनती है,

हारने वालों में तेरा भी हरता है कोई।

 

दूर दूर से तकता रहा ना नज़र मिला पाया,

नज़र मिलाके नज़र चुराने से डरता है कोई।

 

तेरे रस्ते के काँटों की तुझे बिलकुल खबर नहीं,

तली बिछा तेरे पैरों तले जरता है कोई।

 

हस्ते चेहरे पर मातम कभी गम का ना आये,

तेरी आंख से बह्ते आंसू में खरता है कोई।

 

“धीमान राज” की शायरी कभी भाती थी तुझको,

उसी भरम में आज भी लिखा करता है कोई।

 

 

  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
saurabh Mishra

Wah Waah Waaah Waaaah

Ravindra Soni

Bahut sahi Rajesh Bhai…

Neha

Kya likha hai waah waah

Ananya

Very nice poetry. Do keep finding motivation and keep writing.

Parul

Nice

Prasenjit Sen

Wonderful!!
Yea Bharam se hi Kabitay likha karta hei har koi!!

Hitendra Sisodia

what an illusion !!

Arun

Deepest sympathy for everyone.

Rajesh Patel

Mind blowing expression bro
Keep it up to write more…
Waiting for next one

Ashu pandey

Kya bat hai….Maja aa gya

Rakesh Ranjan

Very nice

Amit yaadav

Bht acha likha h

Mukesh

mind blowing

Rahul

nice

Sumit

Awesome

Manish

Very nice

Pushkal

beautiful….

Akhil

Very nice