Shero Shayari


By Danish Ahmad (LTEN)

Bht ghamgeen shama hai, bht ghamgeen lage hai,

Har shaqs zulm sitam mein, kuch aise pade hai .

Teri hasti, teri baat ,badikhlaq mujhe mayus kare hai,

Gar hai insa, to insaniyat pe kahe war kare hai.

Har shaqs zulm sitam mein kuch aise pade hai.

1अजब सा मंज़र मेरे आँखों के आर पार रहता है,
कुछ दिनों से ये मौसम बद्गुमर रहता है।
हर ज़र्रे में फैली है मुफलिसी की चादर,
नम आँखों से शराबोर ये जहाँ रहता है।
_दानिश अहमद

4

Ajab kismat ka kamaal dekha hai….
Aaj fir jaagti aankhon ne ek khwaab dekha hai….
Jo bichad gaya woh toh taqdeer ka khel tha….
Jo mila usey muqaddar bana liya…
Bahut sasti bachpan ki woh hasee huwa karti thi
Bahut kuch kama kar bhi goya sabkuch gawan diya…

 3

Roz nikal padta hoon ghar se main ye soch kar …

Aaj laut aaunga ghar, main waqt par …

 Abbaji  khilaatey they to samajh na aaya tab…

tamaam umr guzar jaati  hai mehaz teen waqt ki roti par….

 

2तेरे आने का इंतज़ार अब और नहीं है,
ज़ख्म जज़्ब करने का हौसला अब और नहीं है।
तू चली गई मेरी दुनिया उजाड़ कर,
मैं ज़िंदा तो हूँ पर जीने का शौक अब और नहीं है।
_दानिश अहमद

3 thoughts on “Shero Shayari

Comments are closed.